NASHA MUKTI WEEK SAMAPAN 2018

नशा मुक्ति सप्ताह का समापन गेवरा दीपका में,
गेवरा-दीपका 2जुलाई2018ः प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा राश्ट्रीय चिकित्सक दिवस एवं नषा मुक्ति सप्ताह पर साधना भवन गेवरा दीपका में आयोजित कार्यक्रम में डाॅ. अविनाश तिवारी उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी नेहरू जन्म शताब्दी एस.ई.सी.एल, ने अपने संदेश में सभी को राश्ट्रीय चिकित्सक दिवस पर अपनी शुभकामनायें दीं। डाॅ.एस. के चंदेरिया नेहरू जन्म शताब्दी एस.ई.सी.एल, ने कहा कि नालेज की कमी के कारण लोग नशे से मुक्त नहीं हो पाते और ही वह डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं। यहांॅ उसके घर परिवार के लागों की विशेष भूमिका होती है कि मिलकर उस व्यक्ति की समस्या को हल करें। डाॅ. व्ही. एम. के. वर्मा एन.सी.एच दीपका ने कहा कि आज का यह अभियान समाज का एक आवश्यक पहलू है। नशा आज समाज की एक जटिल समस्या है, जिसके कारण अनेक लोगों की मौत हो रही है। व्यक्ति इसके कारण कई प्रकार के कैन्सर का, शिकार हो जाता है। जो जीवन को नारकीय बना देते हैं। डाॅ. एम.के विश्वास ने कहा कि जब नशे से कोई बीमारी होती है तो किसी अच्छे डाॅक्टर की सलाह लेनी चाहिए। ब्रह्माकुमारी ज्योति बहन ने कहा कि राजयोग का अभ्यास सभी प्रकार के नशे की कड़ी बीमारी से छुड़ाने की सामथ्र्य रखता है। हमारे पास ऐसे कई उदाहरण इसके ज्वलंत प्रमाण हैं। डाॅ. के.सी. देबनाथ संचालक अक्षय हास्पिटल कोरबा ने नशा मुक्ति सप्ताह की समीक्षा की प्रस्तुति दी। आपने कहा कि युवा पीढ़ी नशे की समस्या को जन जागृति के माध्यम से कम कर सकती है और उससे होने वाली हानि को भी कम किया जा सकता है। ब्रह्माकुमारी रूकमणी बहन ने कहा नशे से पैसा भी बरबाद होता और अनेक पारिवारिक समस्यायें भी आ जाती हैं। श्रेष्ठ नर से नारायण बनने का नशा करें। मनुष्य से देवता बनने का नशा बिन पैसे खर्च का नशा है। इसके लिये राजयोग का अभ्यास चाहिए। भाई संतोष सार्थी ने अपने नशे के जीवन का अनुभव सुनाते हुए कहा कि वो भी समय था कि लोग मुझे आबारा, गुण्डा, शराबी, नशेड़ी के नाम से पहचानते थे। लेकिन राजयोगी बनने के बाद मैं कम्प्यूटर ट्रेनर के साथ, पढ़ा लिखा एक फोटो स्टूडियो का मालिक हूॅ। आज सभी लोग मुझे दिल से सम्मान देते हैं। इसके लिये मैं ब्रह्माकुमारीज् संस्थान का आभार मानता हूॅं और सदा के लिये उनका ऋणि रहूंगा। कु. आशा ने नृत्य की प्रस्तुति की। बहन रेणु तिवारी प्राचार्या आर.एन. पब्लिक विद्यालय दीपका ने धन्यवाद ज्ञापन किया तथा कु. कंचन बाला मौरे ने मंच संचालन किया। विषय-नशा नाश की जड़ पर आयोजित चित्रकला प्रतिस्पर्धा के परिणाम इस प्रकार हैंः- प्रथमः रिया कुमारी 10वीं स.शि.मं गेवरा। द्वितीयः जयदीप पटेल 9वीं डी.ए.वी विद्यालय गेवरा। तृतीयः जयदीप 9वीं सी.पी.एस.झाबर।
शा. हाई. स्कूल सतरेंगा में आयोजित कार्यक्रम धनीराम जायसवाल प्राचार्य, विरेन्द्र साहू शिक्षक, बहन सरोज, बहन मंजूला यादव, ब्रह्माकुमारी पूजा, ब्रह्माकुमारी सरस्वती ने नशा मुक्ति पर अपने विचार व्यक्त किये।
शा. उ.मा.वि. कोरकोमा में आयोजित कार्यशाला में बहन एस.कच्छप वाल्टर प्राचार्या, भ्राता पी.एल.टण्डन व्याख्याता, बहन डिम्पल रावल व्याख्याता पं. भ्राता के.वी.एस.एन.प्रसाद, भ्राता खगेष्वर सोनी ग्रामीण,ब्रह्माकुमारी वेदान्ती, कु. काजल षर्मा 12वीं ने भाग लिया।
शा.उ.मा.वि तिलकेजा में आयोजित नशा मुक्ति कार्यक्रम भ्राता एम.आर. श्रीवास प्राचार्य, भ्राता के.के.दुबे, भ्राता तिवारी जी, भ्राता महावीर राजपूत, ब्रह्माकुमारी रीतांजली ने अपने विचार नशा मुक्ति पर व्यक्त किये।
राजयोग केन्द्र जमनीपाली के कृश होम्योपेथिक क्लीनिक कोरबा द्वारा निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर लगाया गया।