NASHA MUKTI WEEK 2OCT TO 8 OCT 2018

नशा-मुक्ति सप्ताह 2से 8 अक्टूबर 2018 तक

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती

1.राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के अवसर पर जिला प्रशासन और प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के संयुक्त तत्वाधान में नशा मुक्ति सप्ताह के अंतर्गत अंचल में अनेकानेक कार्यक्रम आयोजित किये गये।
2. प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के विश्व सद्भावना भवन के सभागार में नशा मुक्ति सप्ताह 2से 8 अक्टूबर तक का शुभारम्भ दीप प्रज्जवलन करके किया गया। बहन कमलजीत कौर प्राचार्य के.एन. कालेज ने कहा मैंने गांधी जी का जीवन दर्शन का अध्ययन बहुत गहराई से किया है। यह सत्य और अहिंसा का शस्त्र होने के साथ साथ आत्मज्ञान का विज्ञान भी है। बापू जी का कहना था कि मेरा धर्म सत्य और अहिंसा पर आधारित है। सत्य मेरा भगवान है और अहिंसा उसे पाने का साधन। भ्राता योगेश जैन पार्षद वार्ड क्र. 13 नगर पालिक निगम कोरबा ने कहा कि यह मेरा सौभाग्य है कि मेरे वार्ड में ब्रह्माकुमारीज की संस्था है और समय प्रति समय मुझे भी वे सेवा का अवसर देती रहती हैं। बहन मनोरमा शर्मा पूर्व पार्षद ने कहा कि आज मैं इस पावन अवसर पर स्वयं को नशा मुक्त बनाने का संकल्प लेती हूॅं। बहन मधु पाण्डेय वरिष्ठ अधिवक्ता ने कहा कि बच्चों को हर सम्भव प्रयास करके नषे के वातावरण से बचाना चाहिए। यदि उसकी कोई शिकायत है तो उसे प्यार से समझाना चाहिए। बहन इंदु शर्मा अध्यक्ष ममत्व प्रसार समिति गौ-मुखी सेवाधाम देवपहरी ने कहा कि बापू जी को सच्ची श्रद्धांजली तभी होगी जब हम बाह्य स्वच्छता के साथ-साथ आंतरिक स्वच्छता को अपनायें। स्वयं के मन को मंदिर बनायें और नशे से दूर रहें। डाॅ. के.सी देबनाथ अक्षय हास्पिटल ने कहा कि तम्बाकू में 400 रासायनिक तत्व शरीर को नुकसान पंहुचाते हैं। जिसमें निकोटिन ऐसा पदार्थ है जो लत पैदा करता है। पोटेशियम सायनाईड के बाद निकोटिन सबसे जहरीला पदार्थ है, जो कि घातक बीमारी कैन्सर का कारण बनता है। बहन पापिया चतुर्वेदी प्रोफेसर मिनीमाता शा. कन्या महाविद्यालय ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी ने नारी शक्ति को जागृत किया। नारियां चार दीवारी और पर्दे से निकल गांधी जी के साथ आंदोलन में भाग लेने लगी थी। वे अपने गहने भी उतार कर बापू जी को अर्पित कर देती थीं। ब्रह्माकुमारी विद्या बहन ने मन की शांति के लिये राजयोग का अभ्यास कराया। मंच का संचालन शेखर राम ने किया तथा धन्यवाद ज्ञापन ब्रह्माकुमारी रचना बहन ने किया।
3. नगर पालिक निगम कोरबा के सभागार में आयोजित परिचर्चा में अपने विचार व्यक्त करते हुए ब्रह्माकुमारी सारिका बहन ने कहा कि ईश्वर को निहारने के बजाए उसके अस्तित्व का अहसास करने की कोशिश करना चाहिए। ईश्वर हर अच्छे कार्य में हमारा साथ देता है, उसे बिगड़ी को बनाने वाला कहा जाता है। आपने कहा कि इस अभियान को सफल बनाने के लिये हम सबको मिलकर प्रयास करना चाहिए। भ्राता अखिलेश शुक्ला सहायक अभियंता नगर पालिक निगम कोसाबाड़ी जोन ने कहा कि नशा एक सामाजिक बुराई है, जो तन मन धन और संबंधों को हानि पहंुचाते हैं। सरकार को इस ओर कड़े कदम उठाने की आवश्यकता है। भ्राता कमल कर्माकर पूर्व महाप्रबंधक बाल्को, उदयनाथ साहू व्याख्याता, भ्राता के वी एस एन अभियंता ने भी अपने विचार व्यक्त किये।
4. शा.उ.मा. वि. उरगा में आयोजित कार्यक्रम में बहन पुष्पा श्रीवास ने कहा कि नशे तो अनेक प्रकार के हैं लेकिन गुटका पाउच की उपलब्धता सहज है और इसके दूरगामी परिणाम बहुत ही घातक है। बच्चों को नशे से दूर रह कर कुछ रचनात्मक कार्य करना चाहिए। भ्राता के. सी देवनाथ अक्षय हास्पिटल कोरबा ने नशे के विभिन्न प्रकार पर प्रकाश डाला। आपने कहा कि शराब से 60 प्रतिशत दुर्घटना का कारण बनती है। बहुतकाल शराब के सेवन से लीवर खराब हो जाता है। सिरोसिस जैसी बीमारी का शिकार हो जाते हैं। मस्तिष्क की कार्य प्रणाली का अनियंत्रण और उच्च रक्तचाप हो सकता है। ब्रह्माकुमारी रीतांजलि बहन ने बच्चों को नशे से दूर रहने की प्रतिज्ञा कराई।
5. सरस्वती शिशु मंदिर रजगामार में भ्राता अलख नारायण शर्मा प्राचार्य ने कहा कि ब्रह्माकुमारी बहनों द्वारा चलाया जा रहा नशा मुक्ति अभियान के साथ राजयोग प्रशिक्षण बच्चों को नशे से दूर रहने की प्रेरणा देता है। बहन षांति सिंह ने बच्चों को नशा मुक्ति के लिये शपथ दिलाई।
6.शा.उ.मा.विद्यालय एन.सी.डी.सी कोरबा में भ्राता शर्मा जी व्याख्याता,ब्रह्माकुमारी सारिका बहन, ब्रह्माकुमारी लीना बहन, बहन रश्मि शर्मा द्वारा नशा मुक्ति के लिये प्रेरणा दी।
7. एम.एल.सी.कम्प्यूटर कालेज कोरबा में आयोजित कार्यशाला में भ्राता अविरत शर्मा, भ्राता राजकुमार सिंह, बहन सारिका यादव व्याख्यातागण तथा विद्यार्थियों में दादू साहू, धीरज यादव, प्रदीप बोढ़क, कुमारी मंदोदरी ने अपने विचार व्यक्त किये। बहन सारिका शर्मा प्राचार्या ने अभियान के प्रति अपनी शुभकामनायें प्रेशित की।
8. शा. हाई स्कूल पोड़ीबहार में आयोजित परिचर्चा भ्राता एस.के. पाठक प्राचार्य ने कहा कि जहां भी अच्छी चीजें मिलती हैं उन्हें आत्मसात करना चाहिये। नशे से स्वयं को दूर रखें। ए.पी. शुक्ला व्याख्याता ने कहा मुझे तो बच्चों को पढ़ाने का नशा है। बहन पूजा शर्मा प्रशिक्षु बी-एड ने कहा कि मुझे नशा है पढ़ने पढ़ाने और नृत्य करने का। मुकेश श्रीवास, ने भी अपने विचार व्यक्त किये।
9. विद्युत गृह उ.मा.वि. में युवा अनीश शर्मा ने कहा कि व्यक्ति को जीवन की उचाईयों को प्राप्त करने का नशा होना चाहिए। भाई संतोश सारथी ने अपने जीवन का अनुभव सुनाते हुए कहा कि मैंने पढ़ाई 8वीे के बाद आबारा बच्चों का संग लग गया और मैं सभी प्रकार के नशे में लिप्त हो गया। 10 वर्श के बाद जब मैं ब्रह्माकुमारी संस्था से जुड़ा तो आज मैंने 12 वीं पास कर ली है और अपना स्वयं का व्यापार फोटो स्टूडियो की अपनी दुकान है।
10. इंदिरा गांधी 100 शैय्या जिला चिकित्सालय, दक्षिण पूर्वी कोयला प्रक्षेत्र कोरबा, छ.ग. रा. वि उ.कं. लि. के साथ अनेक स्थानों पर चित्र प्रदर्शनी लगा कर नशा मुक्ति के लिये जन जागृति लाई गई। जिला प्रशासन कोरबा ने नशा मुक्ति अभियान के संचालन के लिये विशेष योगदान दिया।
11. जनपद पंचायत करतला में आयोजित कार्यशाला में भ्राता आर. एन. मिश्रा पंचायत निरीक्षक ने कहा कि नशा करने वाले स्वयं ही स्वयं के लिये गड्ढ़ा खोद रहें हैं। जब मालूम है कि बिजली का तार है, तो क्यों छूने का प्रयास करते हैं। जो चीजें नुकसानदायक हैं, उन्हें नहीं खाना चाहिए। भ्राता के.वी.एस.एन. प्रसाद अभियंता छ.रा.वि.उ.क लि. ने कहा करतला विकास खण्ड को यदि नशा मुक्त बनाना है तो हम सभी को मिल कर एकजुट होकर इस अभियान में अपनी सहभागिता निभानी होगी। भ्राता जी.के. मिश्रा मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने अभियान के प्रति अपनी शुभकामनाये की। नशा मुक्ति के लिये होम्योपैथी की दवायें भी उपलब्ध कराई्र गईं।