YOUTH SWARNIM BHARAT BUS YATRA

अखिल भारतीय मेरा भारत स्वर्णिम भारत अभियान कोरबा अंचल में
1.उर्जाधानी कोरबा अंचल में इस अभियान के द्वारा अनेकानेक जन जागृति के कार्यक्रम आयोजित किये गये। विश्व सद्भावना भवन कोरबा में आयोजित कार्यक्रम में बहन रेणु अग्रवाल महापौर नगर पालिक निगम कोरबा ने अभियान के लिये अपनी शुभकामनायें व्यक्त की। ब्रह्माकुमारी भारतीय बहन मुम्बई ने युवा जन जागृति अभियान के मूल उद्देष्यों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सकारात्मक परिवर्तन के लिये युवक प्रेरणाश्रोत बनें, उसके लिये युवाओं को मार्गदर्शन करना तथा स्वच्छ और स्वस्थ भारत के लिये लोगों की सक्रिय भूमिका निभाना है। इसके साथ ही आध्यात्मिक मूल्यों एवं चरित्र निर्माण को प्रोत्साहित करना है। भ्राता एम.एस. कंवर कार्यपालन निर्देशक डाॅ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ताप विद्युत गृह कोरबा ने कहा कि आज यह अभियान दस राज्यों से चलकर छत्तीसगढ़ राज्य में आया है, इसका सहृदय अभिनंदन और स्वागत करता हूॅं। इसका मूल उद्देश्य स्वच्छता, सकारात्मकता तथा राजयोग के द्वारा मूल्यों की स्थापना करना है। यह हमारे सौभाग्य की बात है कि यह संस्था समय समय पर इस तरह के आयोजन करती रहती है। मैं अभियान की सफलता के लिये अपनी शुभकामनायें व्यक्त करता हूंॅ। ब्रह्माकुमार विभोर भाई आगरा ने कहा कि युवा अपने जीवन का लक्ष्य इतना उंचा बनायें कि वे स्वयं रोल माॅडल बनें। बह्माकुमारी रूक्मणी बहन ने कहा कि स्वर्णिम भारत अभियान के द्वारा सम्पूर्ण भारत में विशेष युवाओं में जन जागृति लाई जा रही है। इससे भारत एक दिन स्वर्णिम भारत, सम्पन्न भारत बन जायेगा। कु. नेहा, भ्राता साधराम ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया। भ्राता शेखर राम के द्वारा मंच का संचालन किया गया तथा डाॅ. ए.पी.पाण्डेय ने धन्यवाद ज्ञापन किया।
2.डायमण्ड भवन जमनीपाली में आयोजित कार्यक्रम में आये हुए अतिथियों का स्वागत भ्राता रामकुमार साहू अति. महाप्रबंधक एन.टी.पी.सी जमनीपाली ने किया। भ्राता व्ही. के. मिश्रा मुख्य चिकित्साधिकारी, चिकित्सालय एन.टी.पी.सी ने कहा कि यह एक अच्छी पहल है, युवा पीढ़ी को भारत की संस्कृति की प्रेरणा देने का। आपने कहा कि वैसे तो चिकित्सा विज्ञान में मन इलाज करने का विस्तार नहीं है, लेकिन अधिकांश बीमारियों की शुरूआत मन के कारण ही होती है। आप यदि नीबू का नाम लेते हैं, तो मुंह में पानी आने लगता है। यह एक विचार से मन सक्रिय हो उठता है। नकारात्मक भावनायें अनेक रोगों का कारण बनती हैं। इसलिये स्वस्थ रहने के लिये हमारा खानपान, दिनचर्या, रहन-सहन, बात-व्यवहार के साथ विचारधारा पर भी ध्यान देना आवश्यक है। डाॅ. डी. के. जैन आयुर्वेद विशेषज्ञ ने कहा कि हमारा धर्म प्रधान देश है, ऋषियों मुनियों का देश है और प्राचीन मान्यताओं, सुसंस्कृति का देश है। जिसमें सात्विकता, आध्यात्मिकता, सचरित्रता का ध्वज लहराता था। देवताओं की नगरी स्वर्णिम भारत कहलाता था। हमारे भारत की तस्वीर तब सचरित्र होगी, जब हम चरित्रवान बनेगें। मेरा भारत स्वर्णिम भारत अभियान को गति देने वाले युवाओं और युवतियों को मैं अपनी शुभकामना अर्पित करता हूॅं। यह अभियान सतत् आगे बढ़ता रहे और स्वर्णिम भारत बनाने में सफल हो। भ्राता बी.पी.अग्रवाल वरि. प्रबंधक एन.टी.पी.सी ने किया। मंच का संचालन कंचन मोरे ने किया। ब्रह्माकुमारी शशि बहन ने राजयोग का अभ्यास कराया।
3.उरगा में भ्राता आत्माराम जिला पंचायत सदस्य, भ्राता सम्मेलाल जगत सरपंच तथा गणमान्य व्यक्तियों द्वारा अभियान का स्वागत किया गया। पाली, कटघोरा, सी.आई.एस.एफ दर्री, बाल्को, चांपा, सक्ती में अभियान प्रदर्शनी बस में लाईट एवं साउण्ड के द्वारा जन जागृति लाई गई।
4.देवांगन धर्मशाला चांपा में भ्राता राजेश अग्रवाल अध्यक्ष,नगर पालिका परिषद चांपा, भ्राता मनोज मिततल अध्यक्ष चाम्पा सेवा संस्थान, बहन सरिता मित्तल, ब्रह्माकुमारी रूकमणी,ब्रह्माकुमारी ज्योति।
5.धर्मशाला बाराद्वार अतिथिः डाॅ. जे. सिंह, डाॅ. पी.सिंह, महावीर राठौर, आषीश घोश, विष्णु अग्रवाल, लाला जायसवाल, उमेश शर्मा, भ्राता गोपाल।
6.राजयोग केन्द्र शक्ति अतिथिः भ्राता अमरलाल अग्रवाल, गिरिराज रैन बसेरा, राम अवतार अग्रवाल, मनीष अग्रवाल, अध्यक्ष मारवाड़ी युवा मंच, पंकज महाराज ज्योतिषि, कु. गरिमा जायसवाल।
7.बस यात्रीः भारती बहन, अनीशा बहन, पूनम बहन, शशि प्रभा, विभोर, दिनेश, राजेश, संतकुमार, पंकज, रूपेश, कमलेश, सोमनाथ, राजेन्द्र, राजेश्वर, नमन भाई।